मूत्र में यूरिया की जांच

हमारा उद्देश्य:

मूत्र के दिए गए नमूने में यूरिया की उपस्थिति का पता लगाना।

सिद्धांत

खून से अपशिष्ट उत्पाद दूर करने के लिए, मूत्र गुर्दे द्वारा बनाया जाने वाला तरल है। मानव मूत्र रंग में पीला होता है और इसमें विभिन्न रासायनिक घटक होते हैं। इसमें मुख्य रूप से पानी और यूरिया, यूरिक अम्ल , एंजाइम, कार्बोहाइड्रेट और हार्मोन की पता लगाने योग्‍य मात्रा जैसे जैविक पदार्थ होते हैं। गुर्दे द्वारा यूरिया की हैंडलिंग स्तनधारी चयापचय का महत्वपूर्ण हिस्सा है।

यूरिया मुख्य रूप से सभी स्तनधारियों के मूत्र में मौजूद होता है, लेकिन यह रक्त, पित्त और दूध में भी होता है। यूरिया का स्वाभाविक रूप से निर्माण प्रोटीन के टूटने की प्रक्रिया के दौरान होता है। इस प्रक्रिया की वजह से प्रोटीन में मौजूद अमीनो अम्ल से एमिनो समूह निकल जाते हैं। ये एमिनो समूहों बेहद जहरीले  अमोनिया (NH3) में परिवर्तित हो जाते हैं और इस तरह बनने वाला अमोनिया अंत में लीवर द्वारा यूरिया में बदल दिया जाता है। इस प्रकार से बनने वाला यूरिया इसके बाद गुर्दे में पहुंचता है और अंत में मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाता है।

I यदि मूत्र को वातावरण के संपर्क में रखा जाता है, तो यह विखण्डित हो जाता है और बैक्टीरियल गतिविधि की वजह से अमोनिया मुक्त  हो जाती है। इस प्रक्रिया की वजह से संग्रहीत मूत्र क्षारीय हो जाता है।

आम तौर पर मूत्र के नमूने में यूरिया की उपस्थिति का पता लगाने के लिए यूरीज परीक्षण किया जाता है। एंजाइम यूरीज अमोनिया और कार्बन डाइऑक्साइड में यूरिया को विघटित कर देता है। इसमें क्षारीय पदार्थ अमोनियम कार्बोनेट मिलाने पर,  हल्का  अम्लीय मूत्र क्षारीय विलयन में बदल जाता है। इस अभिक्रिया मिश्रण में फिनोल लाल सूचक का रंग पीले रंग से लाल रंग में बदल जाता है।

Cite this Simulator: